Google+ Badge

Saturday, 10 June 2017

भीड़ मैं भी तन्हां रहती हूँ आजकल

भीड़ मैं भी तन्हां रहती हूँ आजकल
कितने ही चेहरों के साथ भी खोई रहती हूँ आजकल
कितने ही सवालों के जवाब मैं उलझी रहती हूँ आजकल
लेकिन ख़ामोशी से सब कुछ सह लेती हूँ आजकल

सालिहा मंसूरी –

19 .01.16  06:55 

0 comments:

Post a Comment